Chandrayaan-3: चंद्रयान-3 का लैंडर विक्रम पहुंचा चंद्रमा के बेहद करीब, लैंडर विक्रम चंद्रमा पर क्या करेगा?

Chandrayaan-3: chandrayaan-3 चंद्रमा की सतह के पास ही पहुंच चुका है अब इसने अपनी गति धीमी कर ली है विक्रम लैंडर चंद्रमा पर पहुंचने के बाद क्या करेगा –

Chandrayaan-3: चंद्रयान 3 का मिशन क्या है?

Chandrayaan-3: भारत का अब तक का सबसे बड़ा मून मिशन ने आज एक अहम कामयाबी अपने नाम कर ली है। भारतीय स्पेसक्राफ्ट chandrayaan-3 सफलतापूर्वक लैंडर विक्रम से अलग हो चुका है आपको बताना चाहेंगे कि अब लैंडर विक्रम अकेले ही रोवर प्रज्ञान को लेकर चंद्रमा की ओर जा रहा है चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडिंग से पहले chandrayaan-3 की जांच की जाएगी इसके बाद वह चंद्रमा की सतह पर उतारा जाएगा।

इसके बाद ही लेंडर 100 किलोमीटर स्पीड से अरबिक में जाने के लिए अपना रास्ता हो जाएगा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी आईएसआरओ (ISRO) के मुताबिक chandrayaan-3 की लैंडिंग अगले सप्ताह यानी कि 23 अगस्त को कराई जाएगी ऐसे में यह जानना जरूरी होता है कि 1 हफ्ते तक पहुंचेगा और इसका काम करेगा और क्यों भेजा है यह सवाल तो आपके मन में जरूर आ रहे होंगे।

आप सबको पता ही होगा भारत में chandrayaan-3 चंद्रमा की मिशन के लिए चंद्रमा पर भेज दिया है लेकिन अभी यह चंद्रमा की सतह पर नहीं पहुंचा है क्योंकि अब यह कुछ दिन तक पृथ्वी के चक्कर लगा रहा था और अब यह चंद्रमा के चक्कर लगा रहा है विक्रम लैंडर आज अपनी गति धीमी कर देगा और 23 अगस्त को यह चांद पर उतरेगा।

Also Read: Jan Aadhar Card Yojana: सभी जन आधार कार्ड धारको के बैंक खाते में होगी 6800 रुपए की किस्त, जल्द उठाएं योजना का लाभ

30KM की ऊंचाई से कराई जाएगी सॉफ्ट लैंडिंग

Chandrayaan-3: चंद्रयान-3 की लैंडिंग की सबसे अहम भूमिका लैंडर विक्रम की स्पीड पर टिकी हुई है क्योंकि जितनी कम स्पीड लैंडिंग विक्रम की रहेगी उतना ही अच्छा चंद्रमा की सतह पर टिक पाएगा और सुरक्षित रह पाएगा विक्रम लेंडर ने अपनी स्पीड कम कर दी है और अभी भी चंद्रमा पर चक्कर काट रहा है यह 23 अगस्त को चंद्रमा की सतह पर लैंड करेगा। विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह पर जब लैंड करेगा तो इस प्रक्रिया में लैंडर को होरिजेंटल से वर्टिकल दिशा में बदला जाएगा। भारतीय स्पेस एजेंसी (ISRO) के प्रेसिडेंट सोमनाथ ने बताया कि लैंडिंग प्रक्रिया की स्टार्टिंग में स्पीड लगभग 1.68 किलोमीटर प्रति सेकंड है लेकिन यह स्पीड चंद्रमा की सतह के होरिजेंटल है।

अगर चंद्रयान 3 ने अपनी दिशा नहीं बदली और यह अगर होरिजेंटल से वर्टिकल नहीं हुआ तो मानो चंद्रयान-2 की जो समस्या उत्पन्न हुई थी वह फिर से उत्पन्न हो सकती है और चंद्रयान-3 की चंद्रमा पर उतरने की उम्मीद खत्म हो जाएगी जिस उम्मीद से चंद्रयान-3 चंद्रमा पर भेजा है उसे हिसाब से अगर यह नहीं हुआ तो भारत के लिए बहुत ही बड़ा होने वाला है लेकिन हमारे भारतीय वैज्ञानिकों की दृष्टि से यह सब सही होगा और संपूर्ण तरीके से 23 अगस्त को पता चल जाएगा जब विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह पर लैंड करेगा।

Also Read: Today Gold Price Update: 14 कैरेट सोने से लेकर 24 कैरेट सोने का ताजा भाव, आज सोने की ताजा रेट यहां देखें

Chandrayaan-3 की 23 अगस्त को लैंडिंग

Chandrayaan-3: बता दी कि सभी भारतीयों का इंतजार है कि chandrayaan-3 चंद्रमा पर कब उतरेगा लेकिन आपको बताना चाहिए कि आप कुछ ही घंटे बाकी है जब chandrayaan-3 चंद्रमा की सतह पर दिखेगा 23 अगस्त को शाम के समय 5:47 पर लैंडर विक्रम और रोवर प्रज्ञान के साथ चंद्रमा की दक्षिण ऊपर शॉपिंग कराने की पूरी कोशिश की जाएगी जिससे सभी भारतवासियों को बहुत ही खुशी होगी और अपनी सफलता पर खुशी होगी।

Note – यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि goodupdatetak.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसीभी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।

आपने यह ख़बर पढ़ी – Goodupdatetak
आप यह भी पढ़े – Goodupdatetak

Comments are closed.

Translate »
× Connect with us for Daily Update